बच्चो के गुस्से या तेज़ व्यवहार को सुधारने के टिप्स

0
624
गुस्से

अपने बच्चे की आक्रामकता और व्यवहार संबंधी समस्याओं को आंकलन करना  एक कठिन काम हो सकता है!

कई माता-पिता अपने तरीके से इन गुस्से के मुद्दों से बचने की कोशिश करते हैं। लेकिन हम में से कई लोगों को इस समस्या से निपटने के सही तरीकों की जानकारी नहीं होती है। बच्चों में आक्रामकता विभिन्न रूपों में हो सकती है। हालांकि ज्यादातर मामलों में, यह भावनाओं/आवेगों पर नियंत्रण करने में बच्चे की अक्षमता है।

जवाब देने का  ऑप्शन  चुनें और’ प्रतिक्रिया  ‘नहीं करें 

भावनात्मक प्रकोपों ​​​​के दौरान बच्चे कठोर और जोर से हो सकते हैं। हालांकि, उनके अप्रिय व्यवहार का मतलब यह नहीं है कि उनका इरादा दूसरों को चोट पहुंचाने का है। ज्यादातर समय, उन्हें भावनाओं के ज्ञान और खुद को व्यक्त करने के सही तरीकों की कमी ही  होती है। और परिपक्वता की यह कमी आगे आवेग का रूप ले लेती है । 

जब आपका बच्चा आक्रामक मोड में आता है तो शांत और शांत रहना चुनें। उक्त  स्थिति को कभी भी  व्यक्तिगत रूप से न लें। और बच्चे को भी आक्रामक  स्थिति से बाहर निकलने में मदद करें। आप बच्चे को थोड़ी देर के लिए बाहर ले जाकर आसानी से अलग कर सकते हैं। और स्वीकार्य व्यवहार को दोस्ताना और सकारात्मक लहजे में समझाने की कोशिश अवश्य करें। सकारात्मक स्वर में स्पष्ट अपेक्षाएँ निर्धारित करें। और बच्चे के शांत होने पर वांछनीय व्यवहार के महत्व को जरूर  समझाएं। 

अपनी स्पष्ट उम्मीदें सेट करें – बच्चो के गुस्से

अधिकांश माता-पिता अपने बच्चे के ट्रिगर पॉइंट्स को प्रीमेप्ट कर सकते हैं। ऐसे सभी मामलों में बच्चे को मानसिक रूप से  समान्य स्थिति के लिए तैयार करना बेहतर होता है। और अपनी स्पष्ट अपेक्षाएं पहले से ही निर्धारित कर लें। उदाहरण के लिए, यदि आपका बच्चा किसी रिश्तेदार के घर में बेचैन या बोर हो जाता है, तो उसे घर से बाहर जाने से पहले अपेक्षित व्यवहार के बारे में बताएं। अपने बच्चे को यह समझने दें कि किसी भी अवांछनीय व्यवहार का अर्थ होगा ‘मज़ा का अंत’। क्योंकि यह अपेक्षा सेटिंग बच्चे को उचित व्यवहार करने के लिए प्रेरित रहने में हमेशा  मदद करेगी ।

आपकी सोच की दिशा हमेशा स्पष्ट और सीधी होनी चाहिए। और बच्चे को उसके आक्रामक व्यवहार के बारे में आपके विचार के द्वारा  उचित जानकारी मिलनी चाहिए। एक बार जब आप इन अपेक्षाओं को निर्धारित कर लेते हैं, तो यह भी सुनिश्चित करें कि बच्चा निर्धारित नियमों का पालन कर रहा है अथवा नहीं । इसलिए, आपको देखभाल करने वालों के साथ जांच करनी चाहिए और आपकी अनुपस्थिति में  भी (घर पर या डेकेयर सेंटर पर) उसके द्वारा किये जा रहे  व्यवहार पर नज़र रखनी चाहिए । 

अत्यधिक गुस्से वाले व्यवहार संबंधी समस्याओं के मामले में, आप वैकल्पिक स्कूली शिक्षा विकल्पों का विकल्प भी  चुन सकते हैं जैसे कि  ऑनलाइन स्कूलिंग प्लेटफॉर्म।

इससे आपको बच्चे को अपनी निगरानी में रखने में मदद मिलेगी। और आप सुधार (आवश्यक कदम उठाने के बाद) को और बेहतर तरीके से ट्रैक भी  कर पाएंगे । 

नकारात्मकता दूर  रखने के लिए कदम जरूर उठाएं – बच्चो के गुस्से

माता-पिता के रूप में, आपको  लगातार बच्चे का आक्रामक व्यहवार बहुत ही  कठिन समय महसूस हो सकता है। हालांकि, अत्यधिक आक्रामक बच्चे के साथ भी, आपको अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करने और अपने दृष्टिकोण में गैर-निर्णयात्मक रहने की आवश्यकता है। अपने रिश्तों को कभी भी नकारात्मक ऊर्जा विनिमय के क्षेत्र में प्रवेश न करने दें। क्योंकि यह आपके बच्चे को और अधिक उद्दंड और अधिकार की आलोचना करने वाला बना देगा। हर समय सकारात्मक प्रतिक्रिया पर टिके रहें। और स्वीकार्य व्यवहार की व्याख्या करने के लिए कभी भी दंड का प्रयोग न करें। एक अच्छे श्रोता बनें और बच्चे को बात करने दें। एक बार हो जाने के बाद ही  हमेशा अपनी बात साझा किया  करें । 

हमेशा याद रखें कि दंड दुर्व्यवहार की समस्याओं को और बढ़ा सकता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप सही पेरेंटिंग स्टाइल को ही अपनाएं। और हमेशा अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखें । 

अच्छे व्यवहार को और  सुदृढ़ करें 

आप पुरानी सकारात्मक सुदृढीकरण तकनीकों के साथ कभी भी गलत नहीं हो सकते हैं ।  बहुत से अध्ययनों ने साबित किया है कि सुदृढीकरण तकनीक सीधे व्यवहार को प्रभावित करती है। तो सुनिश्चित करें कि आप इन सुदृढीकरण तकनीकों और रणनीतियों के माध्यम से वांछनीय व्यवहार की जड़ों को मजबूत करते हैं। सरल प्रशंसा, पुरस्कार और अशाब्दिक संकेत (जैसे हाथ मिलाना, सिर हिलाना, अंगूठा ऊपर करना आदि) आपके बच्चे के लिए चमत्कार कर सकते हैं। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप इन सरल रणनीतियों का उपयोग करें और अपने बच्चे की आक्रामकता को रोकने के लिए आत्म-नियंत्रण को बढ़ावा देंने की कोशिश करें ।

हो सके तो अच्छा उदाहरण स्थापित करो – बच्चो के गुस्से

अपने बच्चे के लिए, आप पहले से ही एक आदर्श हैं। भावनात्मक बुद्धिमत्ता का प्रदर्शन करने के लिए घर के हर अवसर का उपयोग अवश्य  करें। बच्चे से रोजमर्रा की जिंदगी के तनाव से निपटने के सही तरीकों के बारे में बात जरूर करें। और इन सभी अनौपचारिक बातचीत का उपयोग कर के  उसे शांत रहने के दौरान विकल्प खोजने का सही तरीका बताने के लिए करें। बच्चे को अपनी बातचीत में भाग लेने दें और वास्तविक जीवन के उदाहरणों (जैसे गलतियों के लिए माफी मांगना आदि) के माध्यम से सहानुभूति  पूर्वक  प्रोत्साहित करते रहे । 

उम्मीद है  कि उपरोक्त  उपाय  आपके बच्चे में गुस्से और व्यहवार  के मुद्दों से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।  इनका उपयोग अवश्य  करें और हमेशा सकारात्मक रहें कि आप माता-पिता के रूप में अपनी भूमिका में जरूर  सफल होंगे! 

latest news on education in india  latest news on education today ,

latest news on educational institutions  ,latest news on education loan subsidy ,